प्यार क्या है ? Deeply Understand What Is Love

Emotion_Quote_In_Hindi


प्यार की कोई एक निश्चित Philosophy नहीं है। प्यार को अनेकों तरीके से समझा जा सकता है लेकिन फिर भी प्यार को हम पूरी तरह से समझ नहीं सकते। अगर हम जीवित प्राणियों की बात करें तो वो एहसास ही है जो इस संसार में हर एक सच्चे रिश्ते को बनाये रखा है। प्यार कोई मानसिक अवस्था नहीं है और न ही प्यार कोई भावना है जिसे मिटाया या पैदा किया जा सके। 
इस पोस्ट को पढ़कर आप समझ जायेंगे और बहुत अच्छे से समझ जायेंगे की दरअसल जिसको आप प्यार समझते हैं वो प्यार है भी या नहीं। 

1. जिसको छोड़ने का मन न करे वो प्यार है ፦ एक शराबी को भी शराब छोड़ने का मन नहीं करता है तो क्या उसको शराब से प्यार है। उसको तो शराब से नफरत है वो शराब को चाह कर भी नहीं छोड़ पा रहा है। उसको शराब से प्यार नहीं Addiction है और Addiction जहाँ होता है वहाँ इंसान केवल अपने बारे में सोचता है किसी दूसरे इंसान की उसे कोई परवाह नहीं होती है तो क्या Addiction प्यार है ? (विचार कीजिये)


2. जिसके बारे में हम हमेशा सोचते है वो प्यार है ፦ क्या सोचना प्यार है, क्या हमेशा किसी के खयालो में दुबे रहना प्यार है ? हम यदि किसी इंसान या चीज के बारे में हमेशा सोचते रहते हैं तो इसका मतलब हमे उससे Attachment है, तो क्या Attachment प्यार है ? Attachment यानि ये मेरी पत्नी है, ये मेरा बच्चा है, ये मेरी चीज है इसका मतलब यदि आप किसी से भी Attached है तो आपने अपने मन में उसके ऊपर कब्ज़ा कर लिया है तो क्या कब्ज़ा करना प्यार है ? (विचार कीजिये)

3.  उसे देखते ही प्यार हो गया ፦ जब हम किसी को देखते है तो दिमाग में Dopamine हार्मोन निकलता है जिससे शरीर में हार्मोनिक बदलाव होने लगता है, तो क्या हार्मोनिक बदलाव प्यार है ? हमने अपने Mind में एक Image बना रखी है और उस Image से हमें लगाव है उसे देखकर हम खुश होते है, और जब हमे कोई इंसान उस Image से Related मिल जाता है, तो हम ये कहते है कि हमे उस इंसान से प्यार है जबकि प्यार तो हमे उस Image से है जो दिमाग में पड़ी हुई है। जिसे हम प्यार समझ रहे हैं वो प्यार तबतक ही रहेगा जबतक वो इंसान बिलकुल वैसा ही रहेगा जैसा हम चाहते है या जैसी Image हमारी Mind में पड़ी हुई है, तो क्या किसी को अपने हिसाब से रखना प्यार है या जो जैसा है उसे वैसे ही स्वीकार करना प्यार है। (विचार कीजिये)

4. मुझे पढाई से प्यार है ፦ क्या हमे पढाई से प्यार है ? हमे पढाई से प्यार कहाँ है ? हमे तो Top करने से प्यार है यदि पढ़ने और ना पढ़ने का Option होता तो क्या आप पढ़ते। आप तो अपने Ego को Satisfied करने के लिए पढ़ रहे हो। दुसरो को पढाई में पीछे छोड़कर, उनसे जीत ये कहँ रहे हो कि मुझे पढाई से प्यार है। क्या किसी से जितना प्यार है ? मान लो आपके और आपके Parents के बिच Argument हो रही है, तो क्या उस Argument में उनको नीचा दिखाना और उनसे जीतना प्यार है। (विचार कीजिये)

5. किसी के साथ यदि आपको अच्छा फील होता है तो क्या ये प्यार है ፦ क्या Feeling प्यार है, आप कहँ रहे हो मुझे उसके साथ बहुत अच्छा फील होता है, मै उसके साथ बहुत खुश रहता हूँ और उसको भी ऐसा फील होता है। आप इस अच्छी Feeling को प्यार कहँ रहे हो। मान लो कुछ समय बाद ये Feeling आनी बंद हो गई और ये Feeling अब किसी और से मिलने लगी अब आप ये कहोगे की पहले मुझे उससे प्यार था अब इससे प्यार है। फिर कुछ समय बाद किसी और से तो क्या Feeling प्यार है ? Feeling Temporary होती है कभी आती है कभी नहीं आती लेकिन प्यार Permanent होता है जो कभी भी ख़त्म नहीं होता है। अगर Feeling से आप Attached हो जाओगे तो आपकी जिंदगी बहुत जल्द ही नर्क हो जाएगी। जिन लोगो को कोलेस्ट्रॉल कि बीमारी है और जिनका वजन बहुत अधिक है, डॉक्टरो ने उन्हें तेल वाली चीजे खाने से मना कर दिया है। लेकिन फिर भी वो लोग इस खाने को छोड़ नहीं पा रहे है क्योंकि तेल वाले खाने से टेस्ट आ रहा है, Feeling आ रही है, मजा आ रहा है तो क्या मजा प्यार है ? वही लोग जो पहले एक दूसरे के पीछे लैला-मजनू की तरह पागल थे उनके Divorces हो रहे है। कोट-कचहरी में वो एक दूसरे की धज्जिया उड़ा रहे है की मै तो तुम्हे बर्बाद कर दूंगा, मै तुम्हे बर्बाद कर दूंगी। क्या ये सब चीजे प्यार से आती है ? क्या जहाँ पर प्यार होता है वहाँ पर नफरत की गुंजाईस भी होती है ? (विचार कीजिये)

6. मुझे अपने देश से प्यार है ፦ ये बात हम बहुत गर्व से कहते है मै अपने देश से प्यार करता हूँ क्या सच में आप अपने देश से प्यार करते है। देश मतलब क्या यहाँ की नदियाँ, लोग, तालाब, पहाड़, सड़के, गांव, शहर, जंगल, पशु-पछी, रेगिस्तान, इत्यादि। अगर देश से प्यार होता तो लोग सड़क पर कचड़ा नहीं फेकते, अगर देश से प्यार होता तो लोग आपस में भेद-भाव नहीं करते, यदि देश से प्यार होता तो लोग गांव-शहर में भेव-भाव नहीं करते, यदि देश से प्यार होता तो लोग पर्यावरण को दूषित नहीं करते, अगर आपको देश से प्यार होता तो आप सबको सामान दृष्टि से देखते। तो क्या जो हम सभी कर रहे है अपने देश के साथ, इस Nature के साथ, लोगो के साथ... ये प्यार है। (विचार कीजिये)


Love_Quote_In_Hindi


7. कौन मुझे समझेगा ፦ आप ये Expect कर रहे हो की कोई कहीं से आएगा और आकर आपको समझेगा लेकिन जरा सोचिये क्या आप अपने आप को समझते है ? आप किसी और से ये Expect कर रहे हैं की कोई आपको समझेगा, आप किसी और से ख़ुशी Expect कर रहे हैं, आप किसी और से प्यार Expect कर रहे हैं, आप अपने जीवन की हर एक चीज किसी और से Expect कर रहे है तो क्या Expectation प्यार है ? 
जिसे आप प्यार कहँ रहे होते है वहां कोई न कोई आपका अपना Selfish Motive होता है। अपने अंदर झाँक कर देखिये आपको समझ आ जायेगा। लेकिन यदि आपके अंदर कोई Selfish Motive ना हो तब जाकर आप प्यार करने के लायक बन सकते है। तब जाकर आप ये देख सकते है की सामने वाले इंसान की जरुरत क्या है, तब जाकर आप सामने वाले इंसान की Care कर सकते है। तभी जाकर आप किसी को ख़ुशी दे सकते है जब आप पूरी तरह से खुश हों... इसका मतलब यदि आप प्यार ढूंढ रहे है तो आप प्यार कर नहीं सकते। और यदि आपने अपने अंदर ही प्यार और ख़ुशी का Source विकसित कर लिया, तो आपको सबसे और सबको आपसे प्यार हो जायेगा। 


8. क्या Expectation का न होना प्यार है ፦ आप यदि किसी के साथ Relation में हो और आप यह कहँ रहे हो की मुझे तुमसे कोई Expectation नहीं है और तुम भी मुझसे कोई भी Expectation मत रखना, तो ये प्यार है ? क्या जहाँ पर Expectation नहीं होता वहाँ सच्चा प्यार होता है। अगर आप किसी को Free छोड़ दे रहे हो और उससे ये कहँ रहे हो की तुम जो चाहों वो करो, तो वह तो कुछ कर सकता है, उसको तो कुछ भी पसंद हो सकता है। और अब आप उसे कुछ भी करने से इसलिए मना नहीं करोंगे क्योंकि आप इसे प्यार समझ रहे हो। तो क्या किसी को खुला छोड़ देना प्यार है ?
मान लो एक इंसान जिसने Expectation के ना होने को प्यार समझ कर अपने बेटे से ये कहँ दिया की तुम जो चाहो वो करो अब, और उस लड़के ने पढाई छोड़ दी, इधर-उधर घूमने लगा, तास-पत्ते खेलने लगा, सिगरेट-शराब पिने लगा। लेकिन उसके माता-पिता उसे ये सब करने से रोक नहीं रहे हैं, तो क्या ये प्यार है ? 
मान लो आपके के Husband घर में बच्चो के सामने सिगरेट-शराब पीते हैं, आपका और आपके बच्चो का Care नहीं करते, रोजाना शराब के नशे में आपको और बच्चो को पीटते हैं और आप उनके विरुद्ध कोई भी Action नहीं ले रहे हो, तो क्या ये प्यार है ? Expectation का होना Problem नहीं है Unrealistic Expectation का होना प्रॉब्लम है। Expectation हमेशा Realistic होना चाहिए। 

9. किसी को समझना प्यार है ፦ क्या हम किसी को समझते हैं जब भी लड़ाई-झगड़ा या Argument होता है तो हम सामने वाले को अपनी बात समझा रहे होते हैं, उससे अपनी बात मनवाना चाहते हैं। तो क्या किसी को समझाना प्यार है या किसी को समझना प्यार है। (विचार कीजिये)
हम किसी भी इंसान को, किसी भी Situation को, किसी भी चीज को तभी समझ सकते हैं जब हम उसे बिलकुल वैसे देखें जैसा वो है... जैसे एक Scientist देखता है, Scientist चीजों को बारीकी से देखता है और सिर्फ देखता है। तब जाकर उसे वो दिखता जो वास्तविक है, तब जाकर Discovery होती है। आप चीजों को देख रहे हैं और देख कर कुछ सोच रहे हैं और एक तरफ है आप सिर्फ देख रहे है, दोनों में कुछ अंतर है या नहीं। (विचार कीजिये)

10. जो चीज आकर आपके दिल से जुड़ गई। उसे प्यार कहते हैं, उसे कनेक्शन कहते हैं, उसे सम्बन्ध कहते हैं। मै Physical Heart की बात नहीं कर रहा हूँ। मै दिल की बात कर रहा हूँ जहाँ से आपके सारे Dream, आपके सभी Desire, आपके Like-Dislike, आपकी Feeling, आपके Emotion की शुरुआत होती है। और वो Word है I (मै), ये I ही हम सबका Center Point है, ये नहीं तो कुछ भी नहीं। और जो कोई भी आपके इस I की Definition में आ गया उससे आपका Relationship बन गया। एक जगह है जहाँ प्यार करना पड़ता है और एक जगह है जहाँ प्यार होता है। माँ और बेटे में भाई और बहन में प्यार होता, प्यार करना नहीं पड़ता.... जहाँ पर भी हम कुछ करते है वहाँ Fail होने की, गिरने की सम्भावना होती है और इसलिए Breakup होते हैं। लेकिन माँ और बेटे में कभी Breakup नहीं हो सकता। क्योंकि माँ की जो  मै की Definition है, जो Center Point है उसके अंदर ही उसका बच्चा आ जाता है। मतलब वो बच्चा उस माँ के दिल का भी दिल है इसलिए वहां प्यार होता है, प्यार करना नहीं पड़ता। और ये जहाँ पर I Love You और I Love You Too होता है वहां कोई प्यार-वार नहीं होता, वहां सिर्फ खुजली होती है दोनों को....  की तुम मुझको खुजलाना और मै तुमको खुजलाऊंगा। लेकिन जब ये You, I के अंदर आ जाता है, I के Definition में आ जाता है तो वहां प्यार होता है, प्यार करना नहीं पड़ता।  



निवेदन : इस लेख के बारे में आपके क्या विचार हमे जरूर बतायें। शेयर करें अपने दोस्तों और परिवार के साथ, आपने इस लेख पर अपना कीमती समय दिया इसके लिए आपको धन्यवाद।
Previous Post Next Post